अष्टलक्ष्मी यंत्र जीवन को कैसे समृद्ध बनाता है ? How to Be Wealthy With Lakshmi Yantra | Diwali 2017



अर्था के पिछले दो वीडियो में हमनें आपको अष्टलक्ष्मी यंत्र हमारे जीवन में कैसे प्रभाव डालता है उसकी जानकारी दी है। इस विडियो में हम आपको बताएँगे खास कर उन लोगों को जो व्यापर वर्ग से जुड़े हुए है की कैसे व्यापार वृद्धि में आपको अष्टलक्ष्मी यंत्र सहायता कर सकता है

Mahalakshmi Yantra is the the auspicious yantra for wealth and comforts in life. Mahalakshmi Yantra is for the worship of Goddess Laxmi.

Don’t forget to Share, Like & Comment on this video

Subscribe Our Channel Artha : https://goo.gl/22PtcY

१ यंत्र में, आदी-लक्ष्मी नामक मूल देवी अपने भक्तों को पारिवारिक संबंधों में खुशी और पवित्रता प्रदान करती है

२ यंत्र में मौजूद देवी धन लक्ष्मी, अनुयायियों को अत्याधिक धन देती है ताकि वे अपना नुक्सान पूरा कर सकें और कर्ज़ चूका सकें.

३ अष्टलक्ष्मी यंत्र में देवी धन्य-लक्ष्मी शरीर और मन को मजबूत करने के लिए भोजन का अनुदान देती है और तनाव और परेशानी सहने कि इच्छा शक्ति प्रदान करती है।

४ गज लक्ष्मी के बारे में मान्यता है कि वे सौभाग्य और समृद्धि देती हैं ताकि हम उन्नति करके अपना मकसद पूरा कर सकें.

५ संतान – लक्ष्मी अपने भक्तों को दिव्य कृपा, खुशहाल पारिवारिक सम्बन्ध और जीवन और कारोबार में दीर्घ आयु प्रदान करती है

६ इस यंत्र में देवी धैर्य लक्ष्मी अपने भक्तों को धीरज और आत्म-नियंत्रण प्रदान करती है जो व्यापार में जरूरी है

७ विजया-लक्ष्मी सीधे तौर पर घाटे से लड़ने के लिए साहस प्रधान करती है। कुछ लोग अपने कामों में असफलता से बचने के लिए भी इनका सम्मान करते हैं

८ इस यंत्र में, विद्या-लक्ष्मी नए अवसरों का पता लगाने और नई रणनीति खोजने के लिए हमें शांति और ज्ञान प्रदान करती है.

Like us @ Facebook – https://www.facebook.com/ArthaChannel/
Check us out on Google Plus – https://goo.gl/6qG2sv
Follow us on Twitter – https://twitter.com/ArthaChannel
Follow us on Instagram -https://www.instagram.com/arthachannel/
Follow us on Pinterest – https://in.pinterest.com/channelartha/
Follow us on Tumblr – https://www.tumblr.com/blog/arthachannel

source

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *