पाताल लोक के शासक, मृत्यु के देवता यमराज के कुछ दिलचस्प तथ्य।

पाताल लोक के शासक, मृत्यु के देवता यमराज के कुछ दिलचस्प तथ्य।

हिन्दू धर्म में मृत्यु के देवता को, यम, यमराज या इमरा के नामों से जाना जाता है। कुछ लोग यमराज को स्वत: मृत्यु मानते हैं. जिनके पास मृत्यु पर नियंत्रण रखने की जिम्मेदारी है. हिन्दू पौराणिक ग्रंथों में लिखा है कि कष्ट दायक तत्व जैसे ; काल (समय), ज्वर (बुखार) व्याधि (रोग) क्रोध (गुस्सा) और असुय (इर्षा) इनके सहायक हैं.
विष्णु पुराण में उल्लेख है कि यमराज, भगवान सूर्य और संजना के पुत्र है।

यमराज हिन्दू धर्म के अनुसार मृत्यु के देवता हैं। इनका उल्लेख वेद में भी आता है। इनकी जुड़वां बहन यमुना (यमी) है। यमराज, महिषवाहन (भैंसे पर सवार) दण्डधर हैं। वे जीवों के शुभाशुभ कर्मों के निर्णायक हैं। वे परम भागवत, बारह भागवताचार्यों में हैं। यमराज दक्षिण दिशा के दिक् पाल कहे जाते हैं और आजकल मृत्यु के देवता माने जाते हैं।

दक्षिण दिशा के इन लोकपाल की संयमनीपुरी समस्त प्राणियों के लिये, जो अशुभकर्मा हैं, बड़ी भयप्रद है। यम, धर्मराज, मृत्यु, अन्तक, वैवस्वत, काल, सर्वभूतक्षय, औदुभ्बर, दघ्न, नील, परमेष्ठी, वृकोदर, चित्र और चित्रगुप्त – इन चौदह नामों से यमराज की आराधना होती है। इन्हीं नामों से इनका तर्पण किया जाता है। विश्वकर्मा की पुत्री संज्ञा से भगवान सूर्य के पुत्र यमराज, श्राद्धदेव मनु और यमुना उत्पन्न हुईं।

वैदिक काम में यम और यमी दोनों देवता, ऋषि और मंत्रकर्ता माने जाते थे और ‘यम’ को लोग ‘मृत्यु’ से भिन्न मानते थे। पर बाद में यम ही प्राणियों को मारनेवाले अथवा इस शरीर में से प्राण निकालनेवाले माने जाने लगे। वैदिक काल में यज्ञों में यम की भी पूजा होती थी और उन्हे हवि दिया जाता था। उन दिनों वे मृत पितरों के अधिपति तथा मरनेवाले लोगों को आश्रय देनेवाला माने जाते थे। तब से अब तक इनका एक अलग लोक माना जाता है, जो ‘यमलोक’ कहलाता है।

हिदुओं का विश्वास है कि मनुष्य मरने पर सब से पहले यमलोक में जाता है और वहाँ यमराज के सामने उपस्थित किया जाता है। वही उसकी शुभ और अशुभ कृत्यों का विचार करके उसे स्वर्ग या नरक में भेजते हैं। ये धर्मपूर्वक विचार करते हैं, इसीलिये ‘धर्मराज’ भी कहलाते हैं। यह भी माना जाता है कि मृत्यु के समय यम के दूत ही आत्मा को लेने के लिये आते हैं। स्मृतियों में चौदह यमों के नाम आए हैं, जो इस प्रकार हैं— यम, धर्मराज, मृत्यु, अंतक, वैवस्वत, काल, सर्वभूत, क्षय, उदुंबर, दघ्न, नील, परमेष्ठी, वृकोदर, चित्र और चित्रगुप्त। तर्पण में इनमें से प्रत्यक के नाम तीन-तीन अंजलि जल दिया जाता है।

मार्कडेयपुरण में लिखा है कि जब विश्वकर्मा की कन्या संज्ञा ने अपने पति सूर्य को देखकर भय से आँखें बंद कर ली, तब सूर्य ने क्रुद्ध होक उसे शाप दिया कि जाओ, तुम्हें जो पुत्र होगा, वह लोगों का संयमन करनेवाला (उनके प्राण लेनेवाला) होगा। जब इसपर संज्ञा ने उनकी और चंचल दृष्टि से देखा, तब फिर उन्होने कहा कि तुम्हें जो कन्या होगी, वह इसी प्रकार चंचलतापूर्वक नदी के रूप में बहा करेगी। पुत्र तो यही यम हुए और कन्या यमी हुई, जो बाद में ‘यमुना’ के नाम से प्रसिद्ध हुई।

चार द्वारों, सात तोरणों तथा पुष्पोदका, वैवस्वती आदि सुरम्य नदियों से पूर्ण अपनी पुरी में पूर्व, पश्चिम तथा उत्तर के द्वार से प्रविष्ट होने वाले पुण्यात्मा पुरुषों को यमराज शंख, चक्र, गदा, पद्मधारी, चतुर्भुज, नीलाभ भगवान विष्णु के रूप में अपने महाप्रासाद में रत्नासन पर दर्शन देते हैं। दक्षिण-द्वार से प्रवेश करने वाले पापियों को वह तप्त लौहद्वार तथा पूय, शोणित एवं क्रूर पशुओं से पूर्ण वैतरणी नदी पार करने पर प्राप्त होते हैं।

वेदों के अनुसार यमराज पहले नश्वर जीव थे जिनकी मृत्यु हुई थी. अंततः वो पहले हैं जो पित्रलोक की तरफ बढ़े और स्वयं को प्रेतराज का शासक बनाया. ऋग्वेद में यह बताया गया है की, मृत्यु के बाद अपना स्थान ढूंढने में यमराज मानव जाति की सहायता करते है। कुछ ग्रंथों में स्पष्ट रूप से उन्हे न्याय के देवता कहा गया है, जो धर्म के साथ जुड़े हुए है। यमराज को आत्माओं के न्यायाधीश के रूप में पहचाना जाता है, जो मनुष्य के जीवनकाल में किये गए कर्मों के आधार पर न्याय करते है

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *